नमस्कार 🙏 हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर और विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 97541 60816 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें , *मुस्कुराकर, दर्द भुलाकर…रिश्तों में बंद थी दुनिया सारी हर पग को रोशन करने वाली, वो शक्ति है एक नारी।👩‍🌾महिला दिवस 2021 की शुभकामनाएं💐-आरती वैष्णव* – पर्दाफाश

पर्दाफाश

Latest Online Breaking News

*मुस्कुराकर, दर्द भुलाकर…रिश्तों में बंद थी दुनिया सारी हर पग को रोशन करने वाली, वो शक्ति है एक नारी।👩‍🌾महिला दिवस 2021 की शुभकामनाएं💐-आरती वैष्णव*

😊 कृपया इस न्यूज को शेयर करें😊

*महिला दिवस तभी सार्थक होगा जब महिलाओं का मन, वचन ,कर्म से होगा वास्तविक सम्मान।*

*मुस्कुराकर, दर्द भुलाकर…*

*रिश्तों में बंद थी दुनिया सारी*

*हर पग को रोशन करने वाली,*

*वो शक्ति है एक नारी।*

*👩‍🌾महिला दिवस 2021 की शुभकामनाएं💐*

👩‍🌾 प्रति वर्ष की भांति इस बार भी अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस 08 मार्च को धूमधाम से मनाया जाएगा। यूं तो प्रत्येक वर्ष 08 मार्च के दिन अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर सामाजिक संगठनों और महिला संगठनों सरकारी – गैरसरकारी संगठनों की ओर से कई कार्यक्रम, बड़े समारोह, सम्मान कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। पर क्या बास्तव में हम दिल से महिलाओ का सम्मान अपने दैनिक रोजमर्रा में कर पाते हैं यह प्रश्न आज भी विचारणीय है।चिंतनीय है,मनन योग्य है।

👩‍🌾लेकिन, इस बार कोरोना महामारी के दौर अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के दिन महिलाओं के नेतृत्व को एक पहचान और सम्मान देने का वक्त है। बीते साल वैश्विक महामारी कोविड-19 के कहर से पूरी दुनिया प्रभावित हुई है। इस महामारी के दौर में कोरोना योद्धाओं ने अग्रिम पंक्ति में खड़े रहकर मानवीय सेवा की मिसाल भी पेश की।इन कोरोना योद्धाओं में कई महिलाओं ने आगे बढ़कर अग्रिम मोर्चे पर सेवाएं दीं और अपनी नेतृत्व क्षमता का लोहा मनवाया। संयुक्त राष्ट्र की ओर से इस बार अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस में महिलाओं के नेतृत्व को समर्पित किया है

👩‍🌾 महिलाओं के अदृश्य संघर्ष को सलाम करने के लिए उनके सम्मान में, उन्हें समान अधिकार और सम्मान दिलाने के उद्देश्य के साथ संयुक्त राष्ट्र संघ ने 08 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस घोषित किया है। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाने के लिए कई जायज कारण हैं। महिला/स्त्री/नारी/औरत शब्द कुछ भी हो, मां/बहन/बेटी/पत्नी रिश्ता कोई सा भी हो वे हर जगह सम्मान की हकदार है। चाहे वह शिक्षक/वकील/डॉक्टर/पत्रकार/सैनिक/सरकारी कर्मी/इंजीनियर जैसे किसी पेशे में हों या फिर गृहिणी ही क्यों न हों, समानता का अधिकार उन्हें भी उतना ही है, जितना की पुरुषों का है। आधी आबादी के तौर पर महिलाएं हमारे समाज -जीवन का एक मजबूत आधार है। महिलाओं के बिना इस दुनिया की कल्पना करना ही असंभव है। कई बार महिलाओं के साथ पेशेवर जिंदगी में भेदभाव होता है। घर-परिवार में भी कई दफा उन्हें समान हक और सम्मान नहीं मिल पाता है। फिर वे जूझती हैं। संघर्ष कर करती हैं और इस दुनिया को खूबसूरत बनाने में उनका ही सर्वाधिक योगदान है।

👩‍🌾जी हां बहुत खुशी होती है जब इस एक दिन महिलाओँ का सम्मान होता है उनके कार्यों की सराहना होती है उन्हें सेल्यूट किया जाता है।उनके कर्तव्यों के निर्वहन करने पर गर्वित होकर उन्हें सम्मानित किया जाता है परन्त यह विचारणीय है कि समाज मे इस एक दिन की तरह हमेशा ही महिलाओं को इस तरह का सम्मान प्रदत्त किया जाता है??यह बहुत बड़ा प्रश्न है, क्योंकि जब वही महिलाएं समाज मे अपने कर्तव्यों और दायित्वों का निर्वहन करने जाती है तो समाज का वही बड़ा सा टुकड़ा जो कभी उन्हें सम्म्मनित करते थे उसे ज़लील भी करते हैं सिर्फ इसलिए क्योंकि उसमें समाज मे छुपी कुछ बुराइयों को दुनिया के सामने लाने का प्रयास किया अपने कर्तव्यों का ईमानदारी से निर्वहन किया उस महिला ने सच लिखा तब ठीक द्रौपदी के तरह समूचे समाज के सामने ही उस महिला का चीरहरण भी किया जाता है आप माने या न माने हमारा समाज आज भी चुप सी सहमी डरी हुई और मुंह बंद रखने वाली महिलाओं को ही पसंद करती न कि सच को कहने लिखने वाली महिलाओं को जिस दिन समाज के बड़े वर्ग का स्वार्थ सिद्धि महिला के किसी एक गलती या ईमानदारी कह लें उससे टूट जाता है वही समाज को उस महिला को कटघरे में खड़े करने में देर नही करता है।

👩‍🌾लेकिन हम महिलाएं उतने में भी एक दिन के सम्मान के अपनी जिंदगी की बहुत सारे पलों को आज भी जी ही लेतीं हैं।अगर महिलाएं फूल बनकर सब कुछ सुशोभित कर सकती हैं तो वो चिंगारी बन गलत का खात्मा भी कर सकती है।महिलाओं के सम्मान के साथ खेलने की हिमाकत आज का यह समाज भी करेगा तो वही दिन देखने तैयार रहें जैसे द्रौपदी के अपमान के बाद महाभारत हुआ था।

याद रखें हमारे शास्त्रों में लिखा गया है वह झूठ नही है….

*यत्र नार्यस्तु पूज्यंते*
*रमन्ते तत्र देवता*

*पत्रकार व सामाजिक कार्यकर्ता*
*आरती वैष्णव*

Whatsapp बटन दबा कर इस न्यूज को शेयर जरूर करें 

Advertising Space


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे.

Donate Now

लाइव कैलेंडर

April 2024
M T W T F S S
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930