जब कानून के रखवाले टीआई पर महिला ने लगाया यौन शोषण का आरोप….डीजीपी ने किया लाइन अटैच….

TI लाइन अटैच : यौन शोषण के आरोपी पुलिस इंस्पेक्टर पर गिरी गाज, आईजी के निर्देश पर एक्शन, अब रायगढ़ एसपी करेंगे मामले की जांच

जशपुर 20 अक्टूबर 2019। पत्थलगांव के टीआई ओमप्रकाश ध्रुव पर आखिरकार गाज गिर ही गयी है। NPG पर खबरें प्रकाशित होने और डीजीपी के इस मामले में कड़े रूख के बाद फिलहाल टीआई को लाइन अटैच किया गया है, लेकिन माना जा रहा है कि जांच पूरी होने के बाद इस मामले में बड़ा एक्शन हो सकता है। टीआई ओमप्रकाश पर आरोप था कि उसने 2 सालों तक महिला का यौन शोषण किया, इस दौरान तीन बार वो गर्भवती भी हुई, हर बार उसका गर्भपात करा दिया। डीजीपी के निर्देश के बाद सरगुजा आईजी केसी अग्रवाल ने ओमप्रकाश ध्रुव को लाइन अटैच करने का निर्देश दिया, साथ ही इस पूरे प्रकरण की जांच रायगढ़ के एसपी संतोष कुमार सिंह को सौंपा गया है। एसपी संतोष सिंह की रिपोर्ट के आधार पर इस मामले में अब आगे की कार्रवाई होगी।

महिला ने पहले शिकायती पत्र जशपुर के एसपी शंकरलाल बघेल को सौंपा था। जिसके बाद एसपी ने शिकायत को पुलिस मुख्यालय भेज दिया था। वहीं एसपी ने इस पूरे प्रकरण की जांच डीएसपी उनेजा खातून को सौंपा था। जानकारी के मुताबिक डीएसपी की रिपोर्ट मिलने के बाद जशपुर एसपी ने प्रारंभिक जांच रिपोर्ट आईजी सरगुजा और डीजीपी को भेजी, जिसके बाद कार्रवाई का निर्देश आईजी ने दिया।

ये है पूरा आरोप
महिला का कहना है कि दो साल पहले वह टीआई ध्रुव के संपर्क में आई थी। टीआई ने उसे शादी का झांसा देकर उसके साथ शारीरिक संबंध बनाये। इसके बाद यह सिलसिला चलता रहा, टीआई के नाम पर पत्थलगांव के एक होटल में हमेशा कमरा बुक रहता है। उसी होटल में वह हमेशा मुझे बुलाता था। इस बीच वह तीन बार गर्भवती हुई। लेकिन, ध्रुव ने दबाव डालकर गर्भपात करवा दिया। पीड़िता का कहना है, टीआई हमेशा कहता था, वे पति-पत्नी की तरह रहेंगे, कभी वह छोडे़गा नहीं। पीड़िता का आरोप है कि कई बार रात में अपने ड्राईवर और होटल के कर्मचारी को वह स्कार्पियो गाड़ी में उसे लेने रायगढ़ भेज देता था।शिकायत के अनुसार पीड़िता को एक दिन पता चला कि वह शादी शुदा है तो उसने रिश्ते तोड़ दिये। लेकिन टीआई लगातार उससे मिलते रहे। इस साल 26 जुलाई को मुझे लेने धुव्र खुद रायगढ़ आए। वह तीन दिन पत्थलगांव के होटल में रही। फिर, 29 जुलाई को वह रायगढ़ छोड़ गए। इसके बाद उन्होंने मेरा फोन पिक करना बंद कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *