सकारात्मक सोच की कमी ने ही खरसिया के विकाश को रोका है।स्कूलों की दशा सुधारने की सोंच पर खरसिया के कुछ कांग्रेसी फेर रहे पानी

खरसिया / रायगढ़/ पर्दाफ़ाश न्यूज/

*🔴खरसिया के तथाकथित स्वयंभू नेताओं की विकाश विरोधी मानसिकता बेहद शर्मनाक है।*

*🔴जीर्ण शीर्ण शासकीय स्कूलों के मरम्मत व रखरखाव पर पहल करने वाले बी आर सी और प्रभारी बी ई ओ को मीटिंग में न बुलाने का लगाया आरोप।*

*🔴20 वर्षो से क्या कर रहे थे खरसिया के कांग्रेसी जो मीटिंग में नही बुलाने का रोना रो रहें है।सकारात्मक सोच की कमी ने ही खरसिया के विकाश को रोक रखा है।*

*🔴खण्डहर में तब्दील स्कूल भवनों के सुधार हेतु न तो विपक्ष में थे तब आगे आये कांग्रेसी जनप्रतिनिधि व नेता,और सत्तासीन होने के बाद भी इस ओर कोई प्रयास नही किया जा रहा है।मासूम बच्चे खण्डहर में पढ़ाई करने को मजबूर है।*

*🔴स्थानीय कुछ कांग्रेस नेता और जनप्रतिनिधियों के विकाश विरोधी मानसिकता के कारण बच्चों की जान है खतरे में।*

खरसिया के शहरी छेत्र में स्थित 15 स्कूलों के जर्जर भवनों की मरम्मत का बीड़ा श्री राधेश्याम शर्मा जी के पहल पर नगरपालिका अध्यक्ष कमल गर्ग और सभी वार्डो के पार्षद, जनप्रतिनिधि,और इच्छुक सामाजिक संगठनों द्वारा कुछ दिनों पहले उठाया गया है लेकिन इस सकारात्मक कार्य को करने वालो पर शहर के कुछ तथाकथित कांग्रेसी कुछ विकाश विरोधी मानसिकता रखने वाले लोगों को नागवार गुजर रही है।

 

इन जर्जर स्कुलो की मरम्मत और उसे साज सज्जा से सुंदर बनाने की कल्पना कर उस दिशा में आगे बढ़ने वाले बी आर सी राधेश्याम शर्मा की मंत्री व विधायक उमेश पटेल से शिकायत की गई है की कांग्रेसियों को बिना बुलाये मरम्मत की यह योजना कैसे बन गई?राधेश्याम शर्मा जी पर कांग्रेसियों की अनदेखी का आरोप लगाते हुए। इस कांग्रेसियों को बच्चो के भविष्य की भी कोई चिंता नही है,जो स्कूल खण्डहर में तब्दील हो गये उनको दुरुस्त करने

 

देश के भविष्य कहे जाने वाले बच्चों को सुरक्षित और सुंदर वातावरण में शिक्षा, संस्कार की व्यवस्था करने के लिए एक सकारात्मक सोच को साथ रखकर आगे बढ़ने वाले पहले व्यक्ति हैं राधेश्याम शर्मा जी हैं जिन्होंने गरीब परिवार के इन बच्चों के भविष्य और उनपर आने वाली अनहोनी दुर्घटनाओं से बचाने की दिशा में कार्य करने वाले शहरी जनप्रतिनिधियों को ध्याकर्षण और स्कुलो की मरम्मत,नवीनीकरण की ओर ध्यान आकृष्ट किया।

स्कूलों के रखरखाव,मरम्मत और खण्डहर में तब्दील हो चुके स्कूलों के नवीनीकरण व उसे सुंदर बनाने कल्पना करने वाले प्रभारी बी ई ओ को सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बी आर सी,पद से भी हटवाकर प्राथमिक शाला कुनकुनी स्कूल में भेजने कांग्रेसियों द्वारा दबाव बनाया गया है कि वे अब केवल एक ही स्कूल को ही देखें।

सूत्रों द्वारा बताया जा रहा है कि इस सकारात्मक दिशा स्कुलो के रखरखाव की ओर पहल करने वाले राधेश्याम शर्मा जी पर स्थानीय कांग्रेसियों ने उनकी अनदेखी का आरोप लगाकर मंत्री उमेश पटेल से से उनकी शिकायत कर अच्छे कार्य करने की ओर प्रयास करने की सजा दी गई है।बहरहाल कांग्रेसियों की यह छोटी सोंच से ही पता लगता है कि इतने वर्षों से खण्डहर बन चुके स्कूलों की मरम्मत नही करवा पाने के पीछे इनकी विकाश विरोधी मानसिकता है।मासूम बच्चों की सुरक्षा को भी इन्होंने दरकिनार कर दिया है जो बेहद शर्मनाक है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *