राजनाथ ने कहा पीओके पर ही होगी बात, पाकिस्तान ने दिया जवाब…..

राजनाथ ने कहा पीओके पर ही होगी बात, पाकिस्तान ने दिया जवाब

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को कहा कि अगर भारत की पाकिस्तान से बात होती है तो वह केवल अब ‘पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके)’ पर ही होगी.

राजनाथ सिंह ने यह बात हरियाणा के पंचकुला में एक चुनावी रैली की शुरुआत करते हुए कही. हरियाणा चुनावों के मद्देनज़र बीजेपी ने ‘जन आशीर्वाद यात्रा’ की शुरुआत की है. यह यात्रा राज्य के 90 विधानसभा सीटों से गुज़रेगी और 8 सितंबर को रोहतक में समाप्त होगी.

रक्षा मंत्री ने जो रैली में कहा है उसे उन्होंने ट्वीट भी किया है. उन्होंने ट्वीट मे लिखा है कि कुछ लोग मानते हैं कि पाकिस्तान से बात होनी चाहिए मगर जब तक पाकिस्तान आतंकवाद को समर्थन देना बंद नहीं करता तब तक कोई बात नहीं होगी.

छोड़िए ट्विटर पोस्ट @rajnathsingh

Rajnath Singh

@rajnathsingh
धारा 370 और 35A हटने से हमारा एक पड़ोसी बौखला गया है और दुनिया के तमाम देशों का दरवाजा खटखटा रहा है।

कुछ लोग यह मानते और कहते है कि पाकिस्तान से बात होनी चाहिए मगर जब तक पाकिस्तान आतंकवाद को समर्थन देना बंद नहीं करता कोई बात नहीं होगी।अगर पाकिस्तान से बात भी होगी तो POK पर होगी।

1:01 pm – 18 अग॰ 2019
Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता
19.6 हज़ार लोग इस बारे में बात कर रहे हैं
पोस्ट ट्विटर समाप्त @rajnathsingh
राजनाथ सिंह के बयान के बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री का भी बयान आया है. पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी का बयान जारी किया है जिसमें कहा गया है कि उन्होंने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का दिया गया आज का बयान देखा है. और यह दिखाता है कि भारत एक मुश्किल स्थिति में फंस गया है क्योंकि उसने क्षेत्र की शांति और सुरक्षा को ख़तरे में डालकर एकतरफ़ा फ़ैसला लिया है.

“वह निंदा करते हैं कि भारत ने जम्मू-कश्मीर में दो सप्ताह से पूरी जनता को क़ैद करके रखा है और वहां पर मानवीय संकट गहराता जा रहा है. इस घटना को अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों और अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने भी रिपोर्ट किया है. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद समेत विश्व समुदाय ने भी इस स्थिति का संज्ञान लिया है.”
साथ ही क़ुरैशी ने जम्मू-कश्मीर पर पाकिस्तान की स्थिति साफ़ करते हुए कहा है कि वह संयुक्त राष्ट्र चार्टर सिद्धांत और अंतरराष्ट्रीय क़ानून को मानता है और जम्मू-कश्मीर विवाद का फ़ैसला केवल अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव और कश्मीरी लोगों की इच्छाओं से होगा.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ‘जन आशीर्वाद यात्रा’ की शुरुआत पर कई ट्वीट किए. इनमें से एक ट्वीट उन्होंने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने पर भी किया.

‘हमारा पड़ोसी दरवाज़े खटखटा रहा’

राजनाथ सिंह ने ट्वीट में लिखा कि बीजेपी सरकार बनाने के लिए नहीं बल्कि देश बनाने के लिए राजनीति करती है और अनुच्छेद 370 और 35ए को हटाने से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में विकास होगा.

छोड़िए ट्विटर पोस्ट 2 @rajnathsingh

Rajnath Singh

@rajnathsingh
भारतीय जनता पार्टी केवल सरकार बनाने के लिए नहीं बल्कि देश बनाने के लिए राजनीति करती है।

मोदीजी के नेतृत्व में धारा 370 और 35A को खत्म कर जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के विकास और वहां के युवाओं के भविष्य को ध्यान में रखते हुए उन्हें विकास की मुख्यधारा में शामिल किया गया है।

12:57 pm – 18 अग॰ 2019
Twitter Ads की जानकारी और गोपनीयता
2,566 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं
पोस्ट ट्विटर समाप्त 2 @rajnathsingh
इसके अलावा रक्षा मंत्री ने पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा, “हमारा पड़ोसी अंतरराष्ट्रीय समुदाय के दरवाज़े खटखटा रहा है और कह रहा है कि भारत ने ग़लती की है.”

इस मौक़े पर रक्षा मंत्री ने बालाकोट एयरस्ट्राइक का ज़िक्र भी किया. उन्होंने कहा, “कुछ दिनों पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री कह रहे थे कि भारत बालाकोट से भी बड़े हमले की तैयारी कर रहा है. इसका मतलब है कि पाकिस्तान मान रहे हैं कि भारत ने बालाकोट में हमला किया था.”

राजनाथ सिंह पाकिस्तान के उर्दू अख़बारों में निशाने पर
‘परमाणु हथियार पहले ना इस्तेमाल करने की नीति बदल सकती है’

‘एक दिन पहले दिया था बड़ा बयान’
रक्षा मंत्री ने एक दिन पहले ही परमाणु हथियारों पर बड़ा बयान दिया था.

उन्होंने पोखरण में कहा था कि भारत परमाणु हथियारों के ‘पहले इस्तेमाल न’ करने की नीति पर अभी भी कायम है लेकिन ‘भविष्य में क्या होता है यह परिस्थितियों पर निर्भर करता है.’

पांचवें इंटरनेशनल आर्मी स्काउट मास्टर्स कॉम्प्टीशन के लिए पोखरण पहुंचे राजनाथ सिंह ने पत्रकारों से यह बात कही थी.

उन्होंने ट्वीट में लिखा, “पोखरण वह जगह है जो अटल जी के परमाणु शक्ति बनने के दृढ़ संकल्प का गवाह बना था और अभी भी हम ‘पहले इस्तेमाल नहीं’ के सिद्धांत को लेकर प्रतिबद्ध हैं. भारत इस सिद्धांत का कड़ाई से पालन करता है. भविष्य में क्या होता है तो परिस्थितियों पर निर्भर करता है.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *