कलयुग में भी होते है श्रवण कुमार जैसे पुत्र,साबित किया खरसिया के सपूत विक्रम पटेल ने…

*⭕बीमार पिता रविन्द्र पटेल को अपनी किडनी देकर पुत्र विक्रम पटेल ने निभाया बेटा होने का धर्म।*

*⭕रायपुर स्थित श्री बालाजी हॉस्पिटल में प्रत्यारोपण ऑपरेशन हुआ सफल।*

*⭕रायपुर एवं हैदराबाद के डॉक्टरों की टीम ने किया सफल ऑपरेशन।*

*खरसिया/रायपुर* – खरसिया के दिग्गज नेता रविन्द्र पटेल लम्बे समय से अस्वस्थ चल रहे थे उनका किडनी खराब हो चुका था जिस वजह से डॉक्टरों के परामर्श के बाद किडनी प्रत्यारोपण का ऑपरेशन रायपुर स्थित श्री बालाजी हॉस्पिटल में 4 अगस्त को सफलता पूर्वक सम्पन्न हुआ उक्त ऑपरेशन को हैदराबाद एवँ रायपुर के डॉक्टरों की टीम ने मिलकर सफल बनाया ।

किडनी प्रत्यारोपण के बाद वर्तमान में पूर्व मंडी अध्यक्ष एवं पूर्व जिला पंचायत सदस्य रविन्द्र पटेल एवँ उनके पुत्र विक्रम पटेल दोनों का उपचार डॉक्टरों की देखरेख में श्री बालाजी हॉस्पिटल में चल रहा है।

*⭕जब बेटे विक्रम पटेल ने निभाया अपना पुत्र धर्म पिता रविन्द्र को किया किडनी डोनेट*
जहाँ बदलते परिवेश एवं पाश्चात्य संस्कृति के अंधानुकरण में लोग अपने माता पिता को अलग से रहने एवं बुजुर्ग हो जाने पर वृद्धा आश्रम में छोड़ आते है ऐसे दौर में खरसिया बोतलदा के दिग्गज नेता रविन्द्र पटेल की तबियत जब लगातार एक वर्ष से खराब हो गई लगातार डॉक्टरों के द्वारा उन्हें डायलिसिस की सलाह दी गई थी। खरसिया से रविन्द्र पटेल को रायपुर डायलिसिस के लिए ले जाया जाता था जिससे पूरे परिवार को काफी ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता था। डायलिसिस के दौरान इंफेक्शन से भी रविन्द्र पटेल का तबियत खराब हो गया था ऐसे में डॉक्टरों के द्वारा उन्हें किडनी ट्रांसप्लांट की सलाह दी गई थी।

लगातार 1 वर्ष के लंबे इलाज एवँ परीक्षण के पश्चात अंततः अपने पिता के लगातार गिरते स्वास्थ्य को देखते कलयुग के इस श्रवण कुमार ने इकलौते पुत्र विक्रम पटेल ने अपना पुत्र धर्म निभाते हुए अपना एक किडनी अपने पिता को डोनेट करते हुए अपने पुत्र धर्म की अनूठी मिशाल पेश किया है।

4 अगस्त को पिता पुत्र के सफल ऑपरेशन एवँ किडनी प्रत्यारोपण के बाद अब दोनों पिता पुत्र पूरी तरह स्वस्थ्य है।फिलहाल दोनों को डॉक्टरों के देखरेख में रखा गया है। रविन्द्र पटेल के परिजनो एवँ शुभचिंतकों और परिजनों ने सफल ऑपरेशन के लिए डॉक्टरों की टीम को धन्यवाद देते हुए श्री रविन्द्र पटेल के कुशल स्वास्थ्य की कामना करने वाले सभी स्नेहीजनों का आभार व्यक्त किया है।

*⭕एकबार विक्रम ने साबित कर दिया कि कलयुग में भी श्रवण कुमार जैसे सपूत होते हैं -आज जहां कई परिवारों में बेटो पर माता पिता की अनदेखी के आरोप लगते है वहीं इस बेटे के निर्णय ने फिर एक बार यह साबित कर ही दिया कि कलयुग में भी श्रवण कुमार होतें है जो माता पिता के लिए अपने जान तक कि परवाह नही करते और इस बात को साबित करते है कि यह जीवन माता पिट्स की ही देन है तो उनके लिए सर्वस्व न्योछावर है।*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *