जानकारी जो जरूरी है….मोदी मंत्रिमंडल को लेकर आपके मन में उठ रहे हर सवाल का जवाब…

मोदी मंत्रिमंडल को लेकर आपके मन में उठ रहे हर सवाल का जवाब

सबसे खास बात है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने मंत्री पद की शपथ ली है. इसके साथ ही पूर्व विदेश सचिव एस जयशंकर भी कैबिनेट का हिस्सा बने हैं. पीएम मोदी की नई कैबिनेट में सुषमा स्वराज और जगत प्रकाश नड्डा जैसे मंत्रियों को दोबारा जगह नहीं दी गई. वहीं कुल 19 सांसद हैं जो पहली बार मंत्रिमंडल का हिस्सा बने हैं.

नई दिल्ली: नरेंद्र मोदी ने आज दूसरी बार देश के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली. राष्ट्रपति भवन के खुले प्रांगण में करीब 8000 विशेष मेहमान इस बेहद खास समारोह के साक्षी बने. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कुल 58 मंत्रियों ने मंत्री पद की शपथ ली, लंबे समय से मोदी कैबिनेट के नामों को लेकर कयास लगाए जा रहे थे लेकिन अब पीएम मोदी की टीम सबके सामने है. किसे कौन सा मंत्रालय मिलेगा जल्द ही इस पर फैसला हो जाएगा. पूर्ण बहुमत के साथ दोबारा सत्ता में आए प्रधानमंत्री की कैबिनेट में सभी राज्यों को प्रतिनिधित्व दिया है.मोदी सरकार 2 के मंत्रीमंडल में 6 महिलाओं ने भी मंत्री पद की शपथ ली.
अमित शाह पहली बार बने मंत्री, एस. जयशंकर भी मंत्रीमंडल में शामिल
सबसे खास बात है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने मंत्री पद की शपथ ली है. इसके साथ ही पूर्व विदेश सचिव एस जयशंकर भी कैबिनेट का हिस्सा बने हैं. पीएम मोदी की नई कैबिनेट में सुषमा स्वराज और जगत प्रकाश नड्डा जैसे मंत्रियों को दोबारा जगह नहीं दी गई. मोदी मंत्रीमंडल के सबसे उम्रदराज मंत्री एलजेपी के रामविलास पासवान हैं जिनकी उम्र 72 साल है. वहीं सबसे कम उम्र की मंत्री स्मृति ईरानी हैं जिनकी उम्र 43 साल है.

दो ऐसे मंत्री जो किसी सदन के सदस्य नहीं
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मंत्रीमंडल में 24 कैबिनेट मंत्री, 9 स्वतंत्र प्रभार मंत्री और 24 राज्य मंत्री शामिल हैं. मंत्रीमंडल में कुल 21 राज्यों से आने वाले सासंदों को जगह दी गई है. दोनों सदनों की बात करें तो लोकसभा से 45 और राज्यसभा से 11 सदस्यों ने मंत्री पद की शपथ ली. इसके साथ दो ऐसे मंत्री भी हैं जो वर्तमान में किसी सदन के सदस्य नहीं हैं, इनमें एलजेपी के रामविलास पासवान और पूर्व विदेश सचिव एस. जयशंकर शामिल हैं. बता दें कि जयशंकर अभी बीजेपी के सदस्य भी नहीं हैं.

19 सांसद पहली बार बने मंत्रीमंडल का हिस्सा
19 सासंद ऐसे हैं जिन्होंने पहली बार मंत्रीमंडल में जगह बनाई है, इनमें अमित शाह, एस जय शंकर, रमेश पोखरियाल निशंक, अर्जुल मुंडा, प्रह्लाद जोशी, जी किशन रेड्डी, संजय धोत्रे, अरविंद सावंत, अनुराग ठाकुर, सुरेश अंगाडी, नित्यानंद राय, रेनुका सिंह सारुता. रतन लाल कटारिया, सोम प्रकाश, रामेश्वर तेली, प्रताप चंद्र सारंगी, कैलाश चौधरी, देवश्री चौधरी और वी मुरलीधर राव शामिल हैं.

कैबिनेट में पांच पूर्व मुख्यमंत्रियों को भी जगह
मोदी कैबिनेट में पांच पूर्व मुख्यमंत्रियों को भी शपथ दिलाई गई, इनमें खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राजनाथ सिंह, सदानंद गौड़ा, अर्जुन मुंडा और रमेश पोखरियाल निशंक शामिल हैं. इसके साथ ही कैबिनेट में प्रशासनिक अनुभव को भी तरजीह दी गई है. कुल पांच पूर्व नौकरशाहों को भी कैबिनेट का हिस्सा बनाया गया है. इनमें एस. जयशंकर, हरदीप सिंह पुरी, राज कुमार सिंह, अर्जुन राम मेघवाल और सोम प्रकाश शामिल हैं.

गठबंधन के चार साथी मंत्रीमंडल में, JDU का इनकार
मोदी मंत्रीमंडल में गठबंधन के साथियों को भी पूरी जगह दी गई है, गठबंधन के चार साथियों को मंत्री बनाया गया है. इनमें रामदास अठावले (आरपीआई), राम विलास पासवान (एलजेपी), अरविंद सावंत (शिवसेना) और हरसिमरत कौर बादल (अकाली दल) शामिल हैं. एनडीए की एक और सहयोगी पार्टी नीतीश कुमार जेडीयू ने मंत्रीमंडल में शामिल होने से इनकार कर दिया. कहा जा रहा है कि जेडीयू केवल एक मंत्री पद दिया जा रहा था जिससे वो नाराज है, हालांकि खुद नीतीश कुमार ने किसी भी तरह की नाराजगी से इनकार किया है।

इन 36 लोगों को नहीं मिला दोबारा मौका
मोदी सरकार के पहले कार्यकाल से नए मंत्रीमंडल की तुलना करें तो कुल 36 मंत्री ऐसे हैं जिन्हें दोबारा मौका नहीं मिला. बता दें कि अरुण जेटली ने खुद प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखकर खराब तबीयत के चलते किसी भी तरह की जिम्मेदारी ना देने को कहा था. जिन लोगों के नाम कटे हैं उनमें सुषमा स्वराज, अरुण जेटली, उमा भारती, विजय गोयाल, राज्यवर्धन सिंह राठौर, जेपी नड्डा, राधा मोहन सिंह, मेनका गांधी, जयंत सिन्हा, सुरेश प्रभु, अनुप्रिया पटेल, अनंत गीते, जुअल ओराम, महेश शर्मा, मनोज सिन्हा, अल्फोन्स कन्ननथनम, पी राधाकृष्णण, एसएस आहलूवालिया, रमेश जिगाजिनागी, राम कृपाल यादव, हंसराज अहीर, जसवंत सिंह भाभोर, सुदर्शन भगत, विजेंद्र कुमार, अनंत कुमार हेगड़े, अजय टम्टा, पीपी चौधरी, सुभाष भामरे, सत्यपाल सिंह, विष्णु देव साई, हरि भाई चौधरी, राजेन गोहाईं, शिव प्रताप शुक्ल, विजय सांपला, कृष्णा राज और सीआर चौधरी शामिल हैं.किस राज्य से कितने मंत्री?

उत्तर प्रदेश (9)- 
नरेंद्र मोदी, राजनाथ सिंह, स्मृति ईरानी, महेंद्र नाथ पाण्डेय, संतोष गंगवार, हरदीप सिंह पुरी, जनरल वी के सिंह, साध्वी निरंजन ज्योति, संजीव बालियान

महाराष्ट्र (8)- नितिन गडकरी, प्रकाश जावडेकर, पीयूष गोयल, अरविंद सावंत, रावसाहेब दानवे, संजय धोत्रे, रामदास आठवले, वी मुरलीधरन

बिहार (6)- रामविलास पासवान, रविशंकर प्रसाद, गिरिराज सिंह, आर के सिंह, अश्विनी चौबे, नित्यानंद राय

मध्य प्रदेश (5)-
 नरेंद्र सिंह तोमर, थावरचंद गहलोत, धर्मेंद्र प्रधान, फग्गन सिंह कुलस्ते, प्रह्लाद पटेल

कर्नाटक (4)- सदानंद गौड़ा, निर्मला सीतारामण, सुरेश अंगाड़ी, प्रह्लाद जोशी

राजस्थान(3)- गजेंद्र शेखावत, अर्जुन मेघवाल, कैलाश चौधरी

गुजरात (3)-
 अमित शाह, पुरुषोत्तम रुपाला, मनसुख मंडाविया

हरियाणा (3)- राव इंद्रजीत सिंह, कृष्णपाल गुर्जर, रतन लाल कटारिया

अरुणाल प्रदेश (1)- किरेन रिजिजू

पंजाब (2)- हरसिमरत कौर बादल, सोम प्रकाश

पश्चिम बंगाल (2)- बाबुल सुप्रियो, देवश्री चौधरी

झारखंड (2)- 
अर्जुन मुंडा, मुख्तार अब्बास नकवी

असम (1)– रामेश्वर तेली

दिल्ली (1)- 
डॉ. हर्षवर्धन

जम्मू-कश्मीर (1)- 
डॉ. जीतेंद्र सिंह

ओडिशा (1)-
 प्रताप चंद्र सारंगी

तेलंगाना (1)- 
जी किशन रेड्डी

छत्तीसगढ़ (1)-
 रेणुका सिंह सरुता

गोवा (1)- श्रीपद यशो नाइक

हिमाचल (1)-
अनुराग ठाकुर

उत्तराखंड (1)-
 रमेश पोखरियाल निशंक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *