वनांचल केयर हॉस्पिटल में अवैध गर्भपात का आरोप प्रशासनिक कार्यवाही कार्यवाही पर उठ रही उंगली…

वनांचल केयर हॉस्पिटल में अवैध गर्भपात का आरोप

प्रशासनिक कार्यवाही कार्यवाही पर उठ रही उंगली

खरसिया! खरसिया स्थित वनांचल केयर हॉस्पिटल के डॉक्टरों पर फिर एकबार अविवाहित युवती के गर्भपात कराये जाने का आरोप शिवसैनिकों के द्वारा लगाते हुए वनांचल केयर नर्सिंग होम के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।खरसिया शिवसेना नगर इकाई द्वारा इस सम्बंध में लिखित शिकायत भी चौकी में दर्ज कराया गया है। साथ ही मामले की शिकायत रायगढ़ कलेक्टर,पुलिस अधिक्षक, सीएमओ स्वास्थ्य विभाग से भी किया गया।

उच्चाधिकारियों के निर्देश पर खरसिया एसडीओपी, गरिमा द्विवेदी , चौकी प्रभारी हॉस्पिटल पहुंचे। जहाँ का नजारा देख के अधिकारियों के भी होश उड़ गए वनांचल केयर के वार्डों में ईलाज कराने आये पेशेंट तो दिखे किन्तु निजी नर्सिंग होम में कोई भी डॉक्टर दिखे न ही कम्पाउंडर एवं नर्सिंग स्टॉफ ही नजर आए। जब एसडीओपी एवं मीडिया की टीम ने देखा कि बिना इलाज एवं डॉक्टरों के भर्ती मरीजों की हालत खराब हो रही है तो खरसिया एसडीएम से बात करके भर्ती मरीजों के लिए सरकारी डॉक्टरों को बुलवाया गया। वनांचल केयर के डॉक्टर विक्रम राठिया खरसिया सिविल हॉस्पिटल में बतौर सर्जन पदस्त है लेकिन लगातार उनकी कार्यप्रणाली खरसिया सिविल अस्पताल एवं निजी नर्सिंग होम में विवादस्पद ही रहा है। जब वनांचल केयर में गर्भपात कराई गई युवती के पतासाजी के लिए पुलिस एवं प्रसाशन की टीम द्वारा छानबीन करने पर कोई भी स्टॉफ नजर नही आये।

देर रात पहुंचा प्रशासन

जब लगातार वनांचल केयर के अवव्यस्था की खबर उच्चाधिकारियों को हुई तो रात्रि 11 बजे खरसिया नायब तहसीलदार विवेक पटेल,थाना प्रभारी एस आर साहू, बीएमओ सुरेश राठिया,खरसिया सिविल अस्पताल के प्रभारी डॉ सजन अग्रवाल पुलिस दल बल के साथ पहुंचे जहाँ भर्ती मरीजों का बयान दर्ज कर उनका इलाज किया गया। देर रात 2 बजे तक ड्रामा चलता रहा सैकड़ो की संख्या में शिवसैनिक भी मोर्चा खोलकर वनांचल केयर के बाहर कार्यवाही की मांग पर डटे रहे। रात्रि में शिवसैनिकों को पुलिस द्वारा भगा दिया गया।
देर रात 2 बजे चला सेटिंग का खेल
जब पूरी खरसिया नींद में सो रही थी, तब देर रात अधिकारियों की टीम वनांचल केयर पहुंची एवँ डॉक्टरों तथा स्टाफ के साथ मिटिंग करके एबॉर्शन की घटना को सामान्य ऑपरेशन बताने की बनाई रणनीति जी हाँ जिस युवती को पहले स्थानीय प्रसाशन एवँ पुलिस प्रशासन द्वारा हॉस्पिटल मे भर्ती होने से ही इनकार कर दिया था किसका नाम भी रजिस्टर में दर्ज नही था आज उसी युवती को चेस्ट में गांठ का ऑपरेशन करना डॉक्टरों एवं पुलिस के द्वारा बताया जा रहा है। तो जब प्रसाशन की टीम हॉस्पिटल पहुंची आखिर वो बच्ची कहाँ थी। शिवसैनिकों ने आरोप लगाया है कि चूंकि वनांचल केयर के संचालक डॉ विक्रम राठिया सरकारी हॉस्पिटल में डॉक्टर है एवं अन्य डॉक्टरों के साथ मिलकर वनांचल केयर में अच्छा खासा कारोबार चला रहे है, इसीलिए स्वास्थ्य विभाग की टीम एवं पुलिस मामले को रफादफा करने के मूड में नजर आ रही है।
एसडीओपी खरसिया गरिमा द्विवेदी।

मैं इस विषय मे जांच करवा रही हु,इसलिए युवती का नाम पता सार्वजनिक नही कर सकती!

डॉ विक्रम राठिया
संचालक वनांचल केयर
युवती का चेस्ट में गांठ का ऑपरेशन किया गया है,जल्दबाजी में हॉस्पिटल के रजिस्टर में उसका नाम नही लिखा गया था!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *