रायगढ़ लोकसभा से बसपा- जनता कांग्रेस जे बदल सकती है उम्मीदवार….नवल राठिया को बना मिल सकता है मौका

*रायगढ़ लोकसभा से बसपा की टिकट बदल कर जेसीसीजे जोगी पार्टी अपना प्रत्याशी छाल से नवल राठिया को खड़ा कर सकती है।*
लोकसभा चुनाव अब कुछ ही दिन बाकी है सभी पार्टियों ने अपने अपने उम्मीदवार घोषणा में लगे हुए हैं।बात करे रायगढ़ लोकसभा की तो कांग्रेस से वर्तमान धरमजयगढ़ विधायक लालजीत राठिया जिन्होनें 40 हजार मतों से जीत हासिल की और दूसरी बार विधायक बने। जिसके कारण कांग्रेस ने उनपर दांव लगाया है। क्योंकि पूरे रायगढ़ जिले के पांचों विधानसभा सीट कांग्रेस की है। भाजपा ने 4 बार सांसद राह चुके विष्णुदेव साय का टिकट काट कर नये चेहरे के रम में महिला प्रत्याशी जिलापंचायत अध्यक्ष श्रीमती गोमती साय पर दांव लगाया है जो कांग्रेस के लिए एक बड़ी चुनौती है क्योंकि गोमती से के ऊपर जशपुर पैलेस का हाथ है। वहीं छत्तीसगढ़ में पहली बार क्षत्रिय पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे अस्त्तित्व में आकर जोगी जी ने बहन मायावती के साथ गठबंधन कर 7 सीट विधानसभा में लाकर छत्तीसगढ़ में इतिहास रचा। लोकसभा चुनाव में भी जोगी कांग्रेस और बसपा का गठबंधन कायम है और रायगढ़ लोकसभा सीट बसपा के खाते में चली गई है और इनोसेंट कुजूर को बसपा से प्रत्याशी बनाया। मगर अभी कुछ कह नही सकते।रायगढ़ लोकसभा सीट जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे अपने खाते में लेने की तैयारी में है और अपने दमदार शिक्षित युवा नेता वर्तमान रायगढ़ जिला अध्यक्ष(ग्रामीण) नवल राठिया छाल से को अपना प्रत्याशी बना कर रायगढ़ लोकसभा से उतारने की तैयारी चल रही है जो कांग्रेस और भाजपा दोनो को मुश्किल में डाल देगी।नवल राठिया कोई अपरिचित चेहरा नही रायगढ़ लोकसभा में इनके लाखो युवा फैन्स हैं और राठिया परिवार के सबसे तेजतर्रार युवा नेता के रूप में जाने जाते हैं जिनका एस सी समाज व उरांव समाज से भी बहुत अच्छा संबंध हैं।नवल राठिया ने रायगढ़ और जशपुर में दौरे कर के पार्टी को मजबूत और राठिया समाज को के नेतृत्व में चुनाव लड़ने की तैयारी में है। जल्द ही जेसीसीजे रायगढ़ सीट अपने खाते में लेकर प्रत्याशी परिवर्तन कर नवल राठिया को उम्मीदवार बना सकती है।जिससे रायगढ़ और जशपुर के जोगी के और नवल राठिया के समर्थकों में खुशी की लहर दौड़ रही है। और जल्द ही एक बड़ी सभा छाल में जोगी जी की हो सकती है जहां वे प्रत्याशी की घोषणा करेंगे। विधानसभा चुनाव में नवल राठिया का धरमजयगढ़ विधानसभा से टिकट फाइनल हो गया था मगर किसी कारणवस टिकट परिवर्तन कर संतराम राठिया को दे दिया जिससे बहुत से कार्यकर्ता ज9गई पार्टी छोड़ कर कांग्रेस में वापस चले गए और लालजीत को वॉकओवर मिल गया नही तो जीत असंभाठा।मगर अब नवल राठिया ने लोकसभा की तैयारी शुरू कर दी है और उनके एक्टिविटी से लग रहा है कि वे लोकसभा में छाल के ही प्रत्याशी वर्तमान विधायक और भाजपा के गोमटी साय को टक्कर देंगे। नवल राठिया ने बहुत ही कम समय मे आज प्रदेश स्तर के नेता बन चुके हैं और वर्तमान में रायगढ़ जिला अध्यक्ष हैं। और इनका कोई राजनीतिक बैकग्राउंड नहीं हैं ना ही इनके परिवार का कोई सदस्य राजनीति में है नवल के पिता जी बैंक कर्मचारी हैं और एक मध्यमवर्ग से हैं मगर अपनी मेहनत से महज 29 साल में ही पूरे प्रदेश में अपनी पहचान बनाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *