नमस्कार 🙏 हमारे न्यूज पोर्टल - मे आपका स्वागत हैं ,यहाँ आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा , खबर और विज्ञापन के लिए संपर्क करे +91 97541 60816 ,हमारे यूट्यूब चैनल को सबस्क्राइब करें, साथ मे हमारे फेसबुक को लाइक जरूर करें , *📕 EXPOSE 📕 खरसिया 📕 जमीन दिलाने के नाम पर 82 वर्ष रिटायर्ड बीएसएनएल लाइन इंस्पेक्टर के साथ हुईं धोखाधड़ी ठगी का शिकार बुजुर्ग फ़फ़ककर रो पड़ा* – पर्दाफाश

पर्दाफाश

Latest Online Breaking News

*📕 EXPOSE 📕 खरसिया 📕 जमीन दिलाने के नाम पर 82 वर्ष रिटायर्ड बीएसएनएल लाइन इंस्पेक्टर के साथ हुईं धोखाधड़ी ठगी का शिकार बुजुर्ग फ़फ़ककर रो पड़ा*

😊 कृपया इस न्यूज को शेयर करें😊

*📕 EXPOSE 📕 खरसिया 📕 जमीन दिलाने के नाम पर 82 वर्ष रिटायर्ड बीएसएनएल लाइन इंस्पेक्टर के साथ धोखा धड़ी ठगा हुआ बुजुर्ग फ़फ़ककर रो पड़े*

*📕गंज बाजार खरसिया निवासी कमलेश अग्रवाल ने किया था सौदा, और अब धोखाधड़ी नही उठाता फोन, लगता है मैं ठगा गया 15 फ़रवरी 2023 की है लिखा पढ़ी -अमरदास बैरागी📕*

जी हां खरसिया दिलाने के नाम पर ये फर्जीवड़े धोखे का गोरखधंधा में इन दिनों भूमाफियाओं की सक्रियता बढ़ी हुई है, फर्जी रूप से जमीन दलाली कर भोले भाले लोगों को अपने जाल में बेचने का कार्य जोरों पर चल रहा है साम दाम दंड भेद अपना कर किसी तरह अपनी झोली भरने का काम खूब फल फूल रहा है ऐसे ही एक धोखे का शिकार 82 वर्ष के बुजुर्ग अमर दास बैरागी पत्नी लक्ष्मी बैरागी हो गए हैं और यह बात उनको अब स्पष्ट हुई है जब जमीन सौदे को लगभग एक वर्ष होने का है

“कहते हैं कि विश्वास से बड़ा कोई चीज नहीं होता है अपने जान पहचान के लोगों पर विश्वास करना भी एक व्यवहारिकता में आता है “विश्वास पर दुनिया टिकी है “एक पुरानी कहावत भी है”ऐसा ही बिश्वास इस बुजुर्ग ने किया,लेकिन कौन जान सकता है कि इस विश्वास का गला स्वार्थपरता लालच के कारण कब घोट दिया जाए आपको पता भी नहीं चलेगा, जब तक आपको पता चलेगा आपके पैरों तले जमीन खिसक जाएगी ऐसे हीछलावे और धोखे का शिकार हुए अमर दास बैरागी आज बिलख बिलख कर रो पड़े जब एक वर्ष बाद भी जमीन दिलाने के नाम पर जो मौखिक बातचीत और स्टांप पेपर में इकरार नामा में हुआ था वह आगे बढ़ा ही नहीं, जिस पर विश्वास किया, उसने अब बातचीत करना ही बंद कर दिया है.

खरसिया के गंज बाजार निवासी कमलेश अग्रवाल द्वारा लगभग 1 वर्ष पूर्व रायगढ़ मुख्य मार्ग से लगकर हाउसिंग बोर्ड के कॉलोनी के पास स्थित खसरा नंबर 223/ 8 रकबा 0.018 हे ( क्षेत्रफल 16 × 125 = 2000 वर्गफुट जमीन का सौदा किया ₹300000 डिसमिल के हिसाब से पांच डिसमिल जमीन का 15 लाख में सौदा हुआ जिसमें पहले ₹300000 एडवांस लिखा पढी कर देने कहा गया, किंतु जमीन दलाल कमलेश अग्रवाल द्वारा लिखा पढी कर देने राजी नहीं होना बताया तब क्रेता द्वारा बड़ी रकम न देकर 50000 एडवांस मे सौदा तय हुआ.जब जमीन लेन देंन की बातचीत की गई तब जमीन जो जमीन दिखाया गया, डायवर्सन और अनुमति का कार्य पूर्ण होने के बाद, क्रेता को दूसरी जगह दिखाई दी गई तब उनके द्वारा कमलेश अग्रवाल को कहा गया कि हमको तो पहले दूसरा जमीन दिखाए थे अब इस जमीन को कैसे बता रहे हो तब कमलेश अग्रवाल के द्वारा गोल-गोल जवाब देते हुए अपनी बात से पलट कर लगभग एक माह पूर्व फिर से जगह दिखाने की बात कही गई थी.

अब जब क्रेता अमर दास बैरागी पत्नी लक्ष्मी बैरागी द्वारा इस जमीन की रजिस्ट्री करने कहां जा रहा तब लगभग एक वर्ष बाद भी बातों को अनसुना कर दिया जा रहा एक माह से अधिक समय हो गए जब कमलेश अग्रवाल द्वारा वास्तविक जमीन को दिखाने की बात कही गई थी यार आज दिनांक तक ना उसने फोन उठाया और ना ही हमें फोन कर और संपर्क कर जमीन दिखाया, लंबे समय बीत जाने के बाद बुजुर्ग रिटायर्ड लाइनमैन अमर दास बैरागी को यह संदेह हो गया कि हमारे साथ छलावा हुआ है धोखा हुआ है ना तो क्रेता के एडवांस वापस किए जा रहे और ना ही जमीन की रजिस्ट्री कराई जा रही है कमलेश अग्रवाल द्वारा श्रीमती सुमन देवी प्रति श्री रितेश गर्ग की जमीन बताई गई थी जिसे सभी प्रकार के वाद विवाद एवं भार मुक्त बताया गया था, जमीन दलाल कमलेश अग्रवाल द्वारा जो जमीन पूर्व बताई गई थी वह लिखा पढ़ी होने के बाद दूसरी जमीन दिखाया गया जिससे बुजुर्ग अमर दास बैरागी परिवार सहित कई महीनो से मानसिक प्रताड़ना झेल रहा है.

बताया गया कि,संपर्क साधने पर कमलेश अग्रवाल द्वारा फोन नहीं उठाया जाता ना हीं उसके द्वारा कभी इनसे संपर्क किया जाता है और न अब घर आता जाता है अब खुद को ठगा हुआ मान आज बीएसएनल लाइन मेंन अमर दास बैरागी ने मीडिया के माध्यम से शासन प्रशासन से गुहार लगाई है, कि मेरे परिश्रम की गाढी कमाई जो मैंने एडवांस के रूप में कमलेश अग्रवाल, सुमन देवी पति रोहित गर्ग को दिया है वह रकम मुझे वापस होना चाहिए और वहीं वरिष्ठ नागरिक अमर दास बैरागी ने धोखाधड़ी करने वालों के ऊपर कठोर कानूनी कार्यवाही की मांग की है. विश्वास में मैं फंस गया बोल-बोलकर बुजुर्ग अमर दास बैरागी रोते रहे, नम आंखों से उन्होंने शासन प्रशासन से न्याय की गुहार लगाई है.खरसिया में भूमाफियाओं के हौसले बुलंद है जिसके नाम से स्टांप लेते हैं उसी के खिलाफ में धोखाधड़ी करने के सारे पैतरे अपनाये जाते हैं जिसमें चीट और पट बड़े शातिराना तरीके से इन भू माफियाओं की होती है फिलहाल यह गरीब परिवार अपनी गाढी कमाई को वापस कराने के लिए मीडिया के माध्यम से आगे बढ़ा है बुजुर्ग व्यक्ति ने कहा कि मुझे पूरा भरोसा है प्रशासन मेरे साथ न्याय करेगा.

*✍️पर्दाफाश न्यूज छत्तीसगढ़,एडीटर इन चीफ आरती वैष्णव*

Whatsapp बटन दबा कर इस न्यूज को शेयर जरूर करें 

Advertising Space


स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे.

Donate Now

लाइव कैलेंडर

February 2024
M T W T F S S
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
26272829