पर्दाफाश

Latest Online Breaking News

वरिष्ठ पत्रकार को झूठे मामलों में फंसाकर, झूठे तथ्यहीन प्रतिवेदन के साथ दुर्भावनापूर्ण कार्यवाही की हो रही निंदा!*

*🏈झूठे मामलों में फंसाकर, झूठे प्रतिवेदन के साथ दुर्भावनापूर्ण कार्यवाही हो रही निंदा!*

*🏈राजनीतिक रसूख के आगे कठपुतली बने नौकरशाह- वरिष्ठ पत्रकार पर लगाये सारे आरोप झूठे।*

*📱कैसे किसी ईमानदार सभ्य सभ्रांत व्यक्ति को गुंडा मवाली,अपराधी बनाया जाता है इसकी अगर ट्रेनिंग लेनी हो तो कोई रायगढ़ पुलिस से ले सकते हैं।बहुत ही गम्भीर संवेदनशील, जन जन की सेवा में लिप्त रहने वाले,निष्पक्ष निर्भीक, ईमानदार पत्रकार जो अपनी कलम से सामाजिक बुराइयों,अवैध कारनामे करने वाले,माफियाओं के अवैध कारोबारों खिलाफ लगातार लिखते आएं है, जिससे माफियाओं में हमेशा हड़कम्प मचा रहता है।*

 

 

*📱वर्षो से प्रशासनिक आतँकवाद और झूठे केसों का दंश झेलकर भी यह पत्रकार और यह परिवार आज तक न तो हथियार उठाया नही कोई गलत कार्य किया न पथ भृमित हुआ इनका एक ही हथियार है और वो है कलम इनकी कलम की ताकत से डरकर अब भ्रष्टाचार में लिप्त लोग झूठे आरोपो का फंडा अपना कर सामाजिक छवि धूमिल करने प्रयासरत हैं क्योकि इनके पास इसके अलावा कोई चारा नही है। आपको बता दें कि इन्ही माफियाओं के अवैध कारोबारों को लगातार शासन प्रशासन के सामने लाने का कार्य वरिष्ठ पत्रकार भूपेंद्र किशोर वैष्णव करते आयें हैं,लेकिन यहां ताज़्जुब की बात यह है कि सोशल मीडिया औऱ अपने वेब चैनल्स के माध्यम से जब यह पत्रकार प्रशासन का ध्यानाकर्षण कराता है उन्हें अवगत कराता है तो उन माफियाओ भ्रष्टाचारीयों, अवैध कारोबारीयों पर कार्यवाही होने के बजाय कैसे उनके साथ मिलकर षड्यंत्र पूर्वक किसी पत्रकार को झूठे मामलों में फंसाकर उनका कलम बन्द कर उनके कलम को तोड़ने का कुत्सित प्रयास किया जाता है?बेहद सोचनीय है प्रशासनिक अधिकारी होने के बावजूद कैसे किसी निर्दोष पत्रकार को फर्जी झूठे मामलों में फंसाकर fir दर्ज करते हैं और अपने पद का दुरुपयोग कर कैसे एक पत्रकार अधिवक्ता और सामाजिक कार्यकर्ता की साफ सुथरी छवि को धूमिल करतें उन्हें बदनाम करते है झूठे आरोप लगाकर जबकि वास्तव में पत्रकार समाज मे जो देख रहा है जो गलत हो रहा है उसे लिखता है उसे सबंधित सक्षम समर्थ लोगों तक पहुँचाता है,लेकिन राजनीतिक रसूखदार प्रशासनिक नुमाइंदों को अपनी जेबों में रखने का जो दावा करतें है कहीं न कहीं वो सब इन सच्ची यथार्थ घटनाओं को देखने के बाद सच ही लगती हैं।*

*📱ये कुछ नुमाइंदे अपनी पढ़ाई लिखाई योग्यता शिक्षा दीक्षा अपने कर्तव्य ईमानदारी सबकुछ इन माफियाओं काले कारनामे करने वालों के प्रश्रयदाता राजनीतिक रसूखदारों के पैरों के निचे अपने माता पिता के दिये संस्कारो सहित सबकुछ गिरवी रख देते हैं और इनकी कठपुतली बनकर कार्य करतें चाहे फिर इनकी नौकरी ही क्यों न दांव में लग जाये ये अपने आकाओं को खुश करने के लिए कुछ भी गलत गैरकानूनी यहां तक कि पद का दुरुपयोग करने से भी नही चूकते है।*

*📱ऐसा ही एक बड़ा मामला रायगढ़ जिले का है जिसमे राजनीतिक दबाव और दुर्भावनापूर्ण व्यवहार कर माफियाओ और इन बिके हुए नुमाइंदों के लगातार पर्दाफ़ाश करने वाले पत्रकार को कहीं भी टक्कर देने की हिम्मत नही है तो अपने अपने पदों का दुरुपयोग कर झूठे आरोपों और फर्जी मुकदमों के साथ फंसाकर अपने बुरे इरादों को अंजाम तक पहुचाने का कार्य किया जा रहा है साथ साथ माफियाओं को प्रश्रय देने वाले राजनीतिक रसूखदार लोगों को खुश करने के लिए महामारी काल मे एक गरीब पत्रकार परिवार को प्रताड़ित कर दो मासूम बच्चों के साथ साथ भी अन्याय किया जा रहा है।*

 

*📱सामाजिक छवि धूमिल करने का कुत्सित प्रयास,22 वर्षो की पत्रकारिता है भूपेंद्र वैष्णव की में जो अधिवक्ता भी है और मुखर समाजसेवक है। समाज मे लगातार दीन दुखी पीड़ित प्रताड़ित शोषितों की आवाज बनते आ रहें,जिनसे काले कारनामे करने वाले थरथराते हैं,ऐसे निर्भीक पत्रकार जो कर्तव्यनिष्ठ और ईमानदार है उसे झूठे मामलों में फंसाकर जेल भेजा जाता है।क्योंकि उसने अवैध कारोबारियों की सच्चाई इन नुमाइंदों को व्हाट्सअप पर भेजे इनकी पोल खोला इनका पर्दाफ़ाश किया और समाचार के माध्यम से प्रशासन का ध्यानाकर्षण कराया,बस यही अपराध इस पत्रकार के द्वारा किया गया कि इन्होंने सच लिखा और उस सच को समाज के सामने लाया।तो इन प्रशासनिक लोगों के द्वारा राजनीतिक दबाव में एक पत्रकार के ऊपर एक साथ 4 – 4 fir दर्ज किए जातें है,वही समाचार लिखने पर जिला बदर करवाने की धमकी दी जाती है।घर बैठे बैठे इस पत्रकार पत्नी पर भी fir कर दिए जाते हैं, ये कैसे हो गया और कारण पूछने पर कहते है हमको ऊपर से दबाव है हम कुछ नही कर रहे हमे ऊपर से दबाव है,आखिर ये ऊपर वाला इनका है कौन ये रिश्ता क्या कहलाता है??*

*📱वरिष्ठ पत्रकार सामाजिक कार्यकर्ता भूपेन्द्र वैष्णव पर जिला बदर की कार्यवाही झूठे फर्जी केसों बेबुनियाद आधारों पर दुर्भावनापूर्ण किया गया है।पूरी पूरी एकपक्षीय कार्यवाही हुई है जो प्रशासनिक आतँकवाद का उदाहरण है यही कार्यवाही करने के उद्देश्य से ही पत्रकार परिवार को महामारी काल मे 4-4 झूठे मामले लोगों को बरगलाकर करवाये गए कुछ लोगों के कंधों में बंदूक रखकर कुछ माफिया और उनको संरक्षण देने वाले कुछ नौकरशाह भी कठपुतली बनने से खुद को नही बचा पाए।उनका एक ही जवाब आज भी है ऊपर से आदेश है।इनको सबसे ऊपर में रहने वाले उस भगवान तक कि परवाह नही की किसी को झूठे केसों में फंसाने और सामाजिक निंदा करने के बाद ये कैसे उनसे नजर मिलाने पाएंगे।*

*📱रायगढ़ जिले में ,लगातार अपराधों में बढोत्तरी हुई है,चाहे वो महिलाओं से जुड़े गम्भीर संवेदशील अपराध हो,डकैती, हत्या चोरी,हो या फिर बलात्कार,बच्चियों के साथ अनाचार जैसे गम्भीर अपराध हो या सामाजिक बुराई जुआ,सट्टा हो कुछ संवेदनशील कहलाने वालों की पदस्थापना के बाद इन सभी अपराधों में दिन दोगुनी रात चौगुनी बढोत्तरी हुई।जिम्मेदारी के साथ अपना कार्य करते तो आज हमारा जिला अपराधों से भरा पड़ा जिला न होता बेगुनाहों को फंसाने और कठपुतली बनने के बजाय अपनी कर्तव्यनिष्ठा पर अडिग रहना चाहिए।निर्दोष लोगों पर कार्यवाही के बजाय वास्तविक अपराधियो पर कार्यवाही की आवश्यकता है। जो समाज के आईना है समाज सेवक है उन्हें प्रताड़ित करने से कुछ हाँथ नही लगने वाला है। समाज के सभ्य ईमानदार निर्भीक पत्रकारों पहरेदारों पर दुर्भावनापूर्ण कार्यवाही बहुत ही निंदनीय है।*

समाज का शुभचिंतक कलमकार रायगढ़ छत्तीसगढ़।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button 

Advertisement Box 3

लाइव कैलेंडर

April 2021
M T W T F S S
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930  
error: Content is protected !!