पर्दाफाश

Latest Online Breaking News

Dussehra Totke: दशहरे के पावन पर्व पर लगाएं अमीर बनाने वाला ये पेड़

Dussehra Totke: दशहरे के पावन पर्व पर लगाएं अमीर बनाने वाला ये पेड़

News

 

Dussehra Totke: दशहरा यानि विजयादशमी, ये पर्व  बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप  में मनाया जाता है। इस दिन को सर्वस‌िद्ध मुहूर्त के रूप में जाना जाता है, क्योंक‌ि मां दुर्गा 9 दिन मृत्यु लोक में रहकर अपने लोक के लिए प्रस्थान करती हैं। भगवान श्रीराम ने इसी दिन रावण का वध भी किया था। इतना ही नहीं, नवरात्र के दिन कुबेर ने स्वर्ण की वर्षा करके धरती को धन धान्य से पूर्ण किया था। वैसे तो हर त्योहार खुशियां ही लेकर आता है, लेकिन आप चाहते हैं कि पूरे साल ये खुशियां बरकरार रहे तो यहां दिए गए टोटके से दशहरा के दिन कोई भी एक उपाय करके आने वाले समय में धन दौलत को लेकर आने वाली बाधाओं को दूर किया जा सकता है।

 

दशहरे के अचूक टोटके (Dussehre ke Achuk Totke)

गुप्त दान, महा कल्याण

दशहरे पर रावण दहन के बाद गुप्त दान करने से मनचाही मुराद पूरी हो सकती है। इस दिन एक नई झाड़ू किसी मंदिर में ऐसी जगह रख दें। ध्यान रखे कि ऐसे करते समय आपको कोई देख नहीं पाए। इस गुप्त दान से गरीबी हमेशा के लिए मिट जाएगी। आपको धनवान बनाने से कोई नहीं रक् सकता है।

राम नाम की शक्ति दूर करें दुखों को

दशहरे वाले दिन कोरा कागज लें। कागज में लाइन न हों। कागज के छोटे-छोटे टुकड़े बना लें। इन कागज के टुकड़ों में 1000 बार राम नाम लिखना और जाप भी करते जाना है। शाम को रावण दहन से पहले राम नाम जपते हुए ही 108 आटे की गोलियां भी बना लें और शाम को ही इन आटे की गोलियों को मछलियों को खीला दें। साथ ही साथ राम नाम जपे पेज भी साफ़ बहते हुए जल में प्रबाह कर दें। यक़ीनन , इस टोटके से आपके जीवन के सभी दुखों का अंत हो जायेगा। इस उपाय से जीवन में सभी प्रकार के सुख और ऐश्वर्य की भी प्राप्ति होती है ।

पैसे वाला पेड़ लगाएं

रामनवमी या दशहरा के दिन नागकेसर का पौधा लाएं और अपने घर में उसे दशहरा के दिन लगा कर नियमपूर्वक उसकी देखभाल करें। मान्यता है कि जैसे-जैसे यह पौधा बढ़ता जायेगा आपकी भी उन्नति होती जाएगी ।


व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button 

Advertisement Box 3

लाइव कैलेंडर

February 2021
M T W T F S S
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
error: Content is protected !!