पर्दाफाश

Latest Online Breaking News

खरसिया दर्दनाक सड़क दुर्घटना में काल कलवित हुए सभी मृतकों के परिवार हुए बेसहारा मृतकों के परिवारों को मिले 5-5 लाख मुआवजा – आरती वैष्णव खरसिया

खरसिया दर्दनाक सड़क दुर्घटना में काल कलवित हुए सभी मृतकों के परिवार हुए बेसहारा मृतकों के परिवारों को मिले 5-5 लाख मुआवजा – आरती वैष्णव

खरसिया

बुधवार की रात लगभग 9:30 बजे बिजली विभाग के 02 JE, 02 लाइन मैन,(कर्मचारी डेलिबिजेस) की सड़क दुर्घटना में दर्दनाक मौत के बाद खरसिया में छाया सन्नाटा।
कल रात में हुए भीषण दुर्घटना में बिजली विभाग के खरसिया के JE सुशील सिदार, तुरेकेला JE अमल कुमार एक्का, राजेंद्र सिदार सहायक लाइन मेन ग्रामीण ,भार्गव वैष्णव लाइन मेन (डेलीविजेस)ग्राम देहजरी के पास हुई पिकअप व ट्रक की जबरजस्त टक्कर में गाड़ी में सवार चारो की दर्दनाक मौत हो गई।
भालुनारा छाल रोड बहुत जर्जर स्थिति में है जिस पर कभी pwd विभाग की नजर ही नही गई।शायद ऐसे ही भीषण दुर्घटनाओं को आमंत्रित करने के लिए ही वर्षो बीत जाने के बाद भी कोई सुधार नही हो रहा, न ही रोड में कहीं भी कोई सिग्नल है न बोर्ड लगा है जिससे गाड़ी चालक एलर्ट हो सके।इस विभाग के अधिकारियों को इससे कोई भी सरोकार नही की इस जर्जर सड़क पर लोग कैसे अपना बचाव करेंगे।
Pwd विभाग के लापरवाही ट्रक ड्राइवर लापरवाही की वजह से आज 4 परिवार उजड़ गए।वही बड़े वाहन चालक ऐसे जर्जर रोड पर भी मनमौजी गाड़ी चलाते है जिससे इस तरह की दुर्घटनाये होती है।अभी तक ट्रक चालक को पुलिस नही पकड़ पाई है जिसकी वजह से 4-4 परिवार तबाह हो गये।
सभी मृतकों के परिजनों को मिले 5-5 लाख मुआवजा राशि-पत्रकार व सामाजिक कार्यकर्ता आरती वैष्णव ने सभी मृतक परिवारों को 5-5 लाख रु मुआवजा देने की मांग की है,जो रेग्युलर सरकारी नौकरी में थे उन्हें तो सरकार के द्वारा विधिवत सहयोग मिलेगा ही,उसके साथ ही सहयोगी डेली विजेस कर्मचारी व सहायक लाइन मेन को भी 5-5लाख मुआवजा दिया जाए।क्योकि ये सभी अपने परिवार के रीढ़ के हड्डी थे जिनके जाने से परिवार बेसहारा हो गया है।साथ ही सभी मृतक अल्पआयु में ही काल के गाल में समा गए जिसकी भरपाई तो कभी हो ही नही सकती है।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button 

Advertisement Box 3

लाइव कैलेंडर

January 2021
M T W T F S S
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
error: Content is protected !!